शुक्रवार, 12 जून 2009

"एक चिन्ह"


जिस प्रकार अद्वैतम गुफा के प्रवेशद्वार पर 'शंख-कमल' और दीक्षा कुटीर के प्रवेशद्वार पर 'त्रिनेत्र' बने हैं, उसी प्रकार बाबा की कुटिया की चहारदीवारी पर यह चिन्ह बना है। कभी यहाँ खुशबूदार "कटहली चंपा" के फूल खिला करते थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें