रविवार, 28 जून 2009

"अद्वैतम"


अपनी कुटिया के सामने स्थित इस छोटी-सी गुफा को बाबा ने "अद्वैतम" नाम दिया था। यहाँ वे ब्रह्म-मुहूर्त में ध्यान लगाया करते थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें