रविवार, 19 जुलाई 2009

"बूढा बरगद"


इस बरगद के नीचे पुराने बिन्दुवासिनी मन्दिर की आकृति रखी है। मुख्य मन्दिर का गुम्बद आज भी पुराना ही है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें