रविवार, 19 जुलाई 2009

"माँ विन्दुवासिनी"


बीच वाली प्रतिमा में "महाकाली" और "महादुर्गा" संयुक्त रूप से विराजमान हैं, जबकि उनकी दाहिनी ओर "महालक्ष्मी" तथा बायीं ओर "महासरस्वती" प्रतिष्ठित हैं। संयुक्त रूप से इन्हें "माँ विन्दुवासिनी" (बंगला प्रभाव के कारण "बिन्दुवासिनी") कहते हैं।

अब तो इस ग्रिल गेट के बाहर से ही पूजा करनी पड़्ती है. 


'ग्रिल' पर उकेरी गयी कमल अर्पित करती और शंख बजाती नारी आकृतियाँ 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें