रविवार, 19 जुलाई 2009

"यज्ञ-शाला"


यह है यज्ञ-शाला, जहाँ चैत्र शुक्ल-पक्ष की पंचमी से लेकर नवमी तक शतचंडी यज्ञ होता है। इसी दौरान पहाड़ी के सामने के मैदान में रामनवमी मेला लगता है। आजकल तो यह मेला महीने-भर चलता है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें