रविवार, 19 जुलाई 2009

"योगेश्वरी माँ"


इस मन्दिर के अन्दर भगवान शिव की माँ अन्नपूर्ण से भिक्षा मांगते हुए की प्रतिमा स्थापित हैं। बाहर 'समुद्र-मंथन' की पेंटिंग बनी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें