रविवार, 19 जुलाई 2009

"शिव-पंचायत"


माँ बिन्दुवासिनी के बगल में ५ मन्दिर और बने हैं। एक में शिव अपनी पंचायत- विष्णु, दुर्गा, सूर्य और गणेश के साथ- स्थापित हैं।
टिपण्णी: 1. इन मंदिरों के अन्दर के विग्रहों के फोटो के स्थान पर द्वार पर बनी सुंदर पेंटिंग्स के फोटो दिए जा रहे हैं। हनुमान जी भी एक मन्दिर में "संकट-मोचक" के रूप में विराजमान हैं, उनका फोटो अभी नहीं दिया जा सका।
               2. इन कलाकृतियों के चित्रकार के रुप में "वैद्यनाथ, चित्रपुरी, पाकुड़" लिखा है. पाकुड़ बरहरवा का पड़ोसी शहर है, वहाँ का 'चित्रपुरी' स्टूडियो एक जमाने में प्रसिद्ध था. यह स्टूडियो चित्रकार "वैद्यनाथ" का था.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें